लेखिका परिचय : निर्मला कपिला पंजाब सरकार के सेहत कल्याण विभाग मे चीफ फार्मासिस्ट के पद से सेवानिवृ्त् होने के बाद लेखन में सक्रिय  हुयीं . .सुबह से पहले---कविता संग्रह 2. वीरबहुटी---कहानी संग्रह 3. प्रेम सेतु---कहानी संग्रह . अनेक पत्र पत्रिकायों मे प्रकाशन, विविध भारती जालन्धर से कहानी का प्रसारण सम्मान, पँजाब सहित्य कला अकादमी जालन्धर की ओर से सम्मान, ग्वालियर सहित्य अकादमी ग्वालियर की ओर से शब्दमाधुरी सम्मान .शब्द भारती सम्मान विशिष्ठ सम्मान .देश की 51 कवियत्रियों की काव्य् कृ्ति शब्द माधुरी मे कविताओं का प्रकाशन. कला प्रयास मँच नंगल द्वारा सम्मानित . इसके अतिरिक्त कई कवि सम्मेलनो़ मे सम्मानित .परिकल्पना ब्लॉग विश्लेषण-२००९ में वर्ष के श्रेष्ठ ०९ चिट्ठाकारों में शुमार .संवाद डोट काम द्वारा श्रेष्ठ कहानी लेखन पुरुस्कार .प्रस्तुत है इनकी एक कहानी -

!! कहानी--- बेटियों की माँ !!

()निर्मला कपिला




सुनार के सामने बैठी हूं भारी मन से गहनों की पोटली पर्स मे से निकाल कर कुछ देर हाथ में पकड़े रखती हूं मन में बहुत कुछ उमड़ घमुड़ कर बाहर आने को आतुर है कितन प्यार था इन जेवरों से जब कभी किसी शादी व्याह पर पहनती तो देखने वाले देखते रह जाते किसी राजकुमारी से कम नही लगती थी खास कर लड़ियों वाला हार कालर सेट पहन कर गले से छाती तक सारा झिलमला उठता मुझे इन्तजार रहता कि कब कोई शादी व्याह हो तो सारे जेवर पहून मगर आज ये जेवर मेरे हाथ से निकले जा रहे थे दिल में टीस उठती है ----- दबा लेती हू ---- लगता है आगे कभी व्याह शादियों का इन्तजार नही रहेगा -------- बनने संवरन की इच्छा इन गहनों के साथ ही पिघल जाएगी सब हसरतें लम्बी सास खींचकर भावों को दबाने की कोशिश करती हू सामने बेटी बैठी है -------- अपने जेवर तुड़वाकर उसके लिए जेवर बनवाने है ----- क्या सोचेगी बेटी ----- मा का दिल इतना छोटा है ? अब मा की कौन सी उम्र है इतने भारी जेवर पहनने की ------------- अपराधी की तरह नज़रें चुराते हुए सुनार से कहती हूदेंखो जरा, कितना सोना है ? वो सारे जेवरों को हाथ में पकड़ता है - उल्ट-पल्ट कर देखता है - ‘इनमें से सारे नग निकालने पड़ेंगे तभी पता चलेगा ?‘‘
टीस और गहरी हो जाती है --------इतने सुन्दर नग टूट कर पत्थर हो जाएगे जो कभी मेरे गले में चमकते थे शायद गले को भी यह आभास हो गया है -------बेटी फिर मेरी तरफ देखती है ----- गले से बड़ी मुकिल से धीमी सी आवाज़ निकलती है ---हा निकाल दो


उसने पहला नग जमीन पर फेंका तो आखें भर आई नग के आईने में स्मृतियां के कुछ रेषे दिखाई दिए मा- पिता जी - कितने चाव से पिता जी ने आप सुनार के सामने बैठकर यह जेवर बनवाए थे मेरी बेटी राजकुमारी इससे सुन्दर लगेगी मा की आखें मे क्या था --- उस समय में मैं नही समझ पाई थी या अपने सपनों में खोई हुई मा की आखें में देखने का समय ही नही था शायद उसकी आखों में वही कुछ था जो आज मेरी आखें में है, दिल में है ---- शरीर के रोम-रोम में है अपनी मा का दर्द कहा जान पाई थी सारी उम्र मा ने बिना जेवरों के काट दी वो भी तीन बेटियों की शादी करते-करते बूढ़ी हो गई थी अब बुढ़े आदमी की भी कुछ हसरतें होती हैं बच्चे कहा समझ पाते हैं ---- मैं भी कहा समझ पाई--- इसी परंपरा में मेरी बारी है फिर कैसा दुख ----मा ने कभी किसी को आभास नहीं होने दिया, उन्हें शुरू से कानों में तरह-तरह के झूमके, टापस पहनने का शौक था मगर छोटी की शादी करते-करते सब कुछ बेटियों को दे दिया फिर गृहस्थी के बोझ में फिर कभी बनवाने की हसरत घरी रह गई किसी ने इस हसरत को जानने की चेष्टा भी नही की औरत के दिल में गहनों की कितनी अहमियत होती है ---- यह तब जाना जब छोटी के बेटे की शादी पर उन्हें सोने के टापस मिले मा के चेहरे का नूर देखते ही बनता थादेखा, मेरे दोहते ने नानी की इच्छा पूरी कर दी‘‘ वो सबसे कहती
धीरे-धीरे सब नग निकल गए थे गहने बेजान से लग रहे थे शायद अपनी दुर्दाशा पर रो रहे थे --------------‘ अभी इन्हें आग में गलाना पड़ेगा तभी पता चलेगा कि कितना सोना निकलेगा ‘‘
हा,, गला दोबचा हुआ साहस इकट्ठा कर, दो शब्द निकाल पाई
उसने गैस की फूकनी जलाई एक छोटी सी कटोरी को गैस पर रखा, उसमें उसने गहने डाले और फूकनी से निकलती लपटों से गलाने लगा लपलपाटी लपटों से सोना धधकने लगा एक इतिहास जलने लगा ---- टीस और गहरी हुई लगा जीवन में अब कोई चाव ----- नही रह गया है ---- एक मा‘-बाप के बेटी के लिए देखे सपनों का अन्त हो गया और मेरे मा- बाप के बीच उन प्यारी यादों का अन्त हो गया ----- भविष्य में अपने को बिना जेवरों के देखने की कल्पना करती हू तो ठेस लगती है मेरी तीन समघनें और मैं एक तरफ खड़ी बातें कर रही है इधर-उधर लोग खाने पीने में मस्त है कुछ कुछ नज़रें मुझे ढूंढ रही है थोड़ी दूर खड़ी औरतें बातें कर रही है एक पूछती हैलड़की की मा कौन सी है ? ‘‘दूसरी कहती हैअरे वह जो पल्लू से अपने गले का आर्टीफिशल नेकलेस छुपाने की कोशिश कर रही है ‘‘ सभी हस पड़ती हैं समघनों ने शायद सुन लिया है ----- उनकी नज़रें मेरे गले की तरफ उठी --------- क्या है उन आखों में जो मुझे कचोट रहा है ---- हमदर्दी ----- दया--- नहीं--नहीं व्यंग है, बेटिया जन्मी हैं तो सजा तो मिलनी ही थी ----- उनके चेहरे पर लाली सी छा जाती है बेटों का नूर उनके चेहरे से झलकने लगता है अन्दर ही अन्दर र्म से गढ़ी जा रही हूं, क्यों ? क्या बेटियों की मा होना गुनाह है ---- सदियों से चली रही इस परंपरा से बाहर निकल पाना कठिन है आखें भर आती हैं साथ खड़ी औरत कहती है बेटियों को पराए घर भेजना बहुत कठिन है और मुझे अन्दर की टीस को बाहर निकालने का मौका मिल जाता है एक दो औरतें और सात्वना देती है ---- आसुयों को पोंछकर कल्पनाओं से बाहर आती हू मैं भी क्या उट पटाग सोचने लगती हू --- अभी तो देखना है कि कितना सोना है शायद उसमें थोड़ा सा मेरे लिये भी बच जाए सुनार ने गहने गला कर सोने की छोटी सी डली मेरे हाथ पर रख दी मुटठी में भींच कर अपने को ढाढस बंधाती हू इतनी सी डली में इतने वर्षों का इतिहास समाया हुआ था तोल कर हिसाब लगाती हू तो बेटी के जेवर भी इसमें पूरे नही पड़ते है ------ मेरा सैट कहा बनेगा फिर सोचती हू सास का सैट रहने देती हू ---- बेटी को इतना पढ़ा लिखा दिया है एक महीने की पगार में सैट बनवा देगी मुझे कौर बनावाएगा ? मगर दूसरे ही पल बेटी का चेहरा देखती हू सारी उम्र उसे सास के ताने सुनने पड़ेंगे कि तुम्हारे मा-बाप ने दिया क्या है------ नहीं नही मन को समझाती अब जीवन बचा ही कितना है बाद में भी इन बेटियों का ही तो है एक चादी की झाझर बची थी उस समय - समय भारी घुघरू वाली छन छन करती झाझरों का रिवाज था ----- नई बहू की झाझर से घर का कोना कोना झनझना उठता साढ़े तीन सौ ग्राम की झाझर को पुरखों की विरासत समझ कर रखना चाहती थी मगर पैसे पूरे नही पड़ रहे थे दिल कड़ा कर उसे भी सुनार को दे दिया सुनार के पास तो यू पुराने जेवर आधे रह जाते है ------- झाझर को एक बार पाव में डालती हू -------------- बहुत कुछ आखें में घूम जाता है बरसों पहले सुनी झकार आज भी पाव में थिरकन भर देती है मगर आज पहन कर भी इसकी आवाज बेसुरी लग रही है ---शायद आज मन ठीक नही है उसे भी उतार कर सुनार को दे देती हू
सुनार से सारा हिसाब किताब लिखवाकर गहने बनने दे देती हू उठ कर खड़ी होती हू तो लड़खडार जाती हू जैसे किसी ने जान निकाल दी हो बेटी बढ़कर हाथ पकड़ती है---- डर जाती हू कहीं बेटी मेरे मन के भाव ने जान ले उससे कहती हू अधिक देर बैठने से पैर सो गए हैं अैार क्या कहती ? कैसे बताती कि इन पावों की थिरकन समाज की परंपंराओं की भेंट चढ़ गई है

सुनार सात दिन बात जेवर ले जाने को कहता है सात दिन कैसे बीते बता नहीं सकती--- हो सकता है मैं ही ऐसा सोचती हू ाायद बाकी बेटियों की मायें भी ऐसा ही सोचती होंगी आज पहली बार लगता है मेरी आधुनिक सोच कि बेटे-बेटी में कोई फरक नहीं है , चूर-चूर हो जाती है --- जो चाहते हैं कि समाज बदले बेटी को सम्मान मिले --- वो सिर्फ लड़की वाले हैं कितने लड़के वाले जो कहते है दहेज नहीं लेंगे ? वल्कि वो तो दो चार नई रस्में और निकाल लेते है उन्हें तो लेने का बहाना चाहिए लगता है और कभी इस समस्या से मुक्त नही हो सकती ------ औरत ही दहेज चाहती है औरत ही दहेज चाहती है सास बनकर ------- औरत ही दहेज देती है, मा बनकर लगता है तीसरी बेटी की शादी पर बहुत बूढ़ी हो गई हू ----- शादियों के बोझ से कमर झुक गई है ----- खैर अब जीवन बचा ही कितना है आगे बेटियां कहती रहती थीमा यह पहन लो, वो पहन लो---- ऐसे अच्छी लगती है -----‘अब बेटिया ही चली गई तो कौन कहेगा कौन पूछेगा ----मन और भी उदास हो जाता है रीता सा मन----रीता सा बदन- लिए हफते बाद सुनार के यहा फिर जाती हू ---- बेटी साथ है ---- बेटी के चेहरे पर चमक देखकर कुछ सकून मिलता है
जैसे ही सुनार ने गहने निकाल कर सामने रखे, बेटी का चेहरा खिल उठता है ---- उन्हें बड़ी हसरत से पहन-पहन कर देखती है और मेरी आखों के सामने 35 वर्ष पहले का दृष्य घूम गया--------मैं भी तो इतनी ही खु थी -----------मा की सोचों से अनजान -------लेकिन आज तो जान गई हू --- सदियों से यही परंपरा चली आज रही है -----मैं वही तो कर रही जो मेरी मा ने किया ---बेटी की तरफ देखती हू उसकी खूशी देखकर सब कुछ भूल जाती ---- अपनी प्यारी सी राजकुमारी बेटी से बढ़कर तो नहीं हैं मेरी खुायॉं -----मन को कुछ सकून मिलता है ----जेवर उठा कर चल पड़ती हॅ बेटी की ऑंखों के सपने देखते हुूए काष ! मेरी बेटी को इतना सुख दे, इतनी शक्ति दे कि उसको इन परंपराओं को निभाना पड़े ----- मेरी बेटी अब अबला नहीं रही, पढ़ी लिखी सबला नारी है, वो जरूर दहेज जैसे दानव से लड़ेगी ----- अपनी बेटी के लिए----मेरी ऑंखों में चमक लौट आती है -----पैरों की थिरकन मचलने लगती है --------------
() () ()
पुन: परिकल्पना पर वापस जाएँ

3 comments:

पूर्णिमा ने कहा… 12 मई 2010 को 9:10 pm

मैने तो पहली बार पढ़ी यह कहानी और आपकी प्रशंसक हो गयी, बहुत सुंदर कहानी ,बधाइयाँ !

mala ने कहा… 12 मई 2010 को 9:11 pm

बहुत अच्छा लगा....बहुत संवेदनशील कहानी है

man na vicharo ने कहा… 25 जून 2011 को 5:06 pm

ek ek bat jaise ek ek maa ki aavaj hai..bahut hi savedanshil kahani likhi hai..ho sake to jab likhiye muje mail kijiyega..aapki aabhari rahungi..

neetakotecha.1968@gmail.com

 
Top