आईये मेरी आवाज़ में एक और मुक्तक सुनिए-"हो सके तो ये जीवन सरल कीजिये,
प्रेम के कुछ सवालों का हल कीजिये ,
जिससे दिल टूट जाए किसी का यदि-
ऐसी कोई भी अब नाम पहल कीजिये !"

5 comments:

निर्मला कपिला ने कहा… 8 जुलाई 2010 को 8:59 am

बहुत सुन्दर । मन भावन शब्द और आवाज। बधाई।

पूर्णिमा ने कहा… 8 जुलाई 2010 को 10:40 am

बहुत बढिया

 
Top