गणपति गणेश जी के बड़े सिर से हमें बड़ी और सबकी भलाई की बातें सोचने की प्रेरणा मिलती है।

उनके बड़े कान से हमें लोगो के विचार/सुझाव को सुनने की सीख मिलती है।

उनकी छोटी आंखे हाथ में लिये कार्यो को उचित तरीके से जल्दी पूरा करने की ओर इशारा करती है।

उनकी लम्बी नाक हमें चारों ओर की घटनाओं की जानकारी और ज्यादा सीखने के लिये प्रेरित करती है।

उनका छोटा मुंह हमें कम बोलने और ज्यादा सुनने की याद दिलाता है।

अत: आज गणेश चतुर्थी के अवसर पर भगवान गणेश से प्रेरणा लेते हुये अपने-अपने जीवन और कर्मक्षेत्र में हमेशा सकारात्मक बने रहने का संकल्प लें ।सारी विघ्न बाधा गणपति बप्पा दूर कर देंगे।

7 comments:

mala ने कहा… 11 सितंबर 2010 को 4:22 pm

गणेशचतुर्थी और ईद की मंगलमय कामनाये !

गीतेश ने कहा… 11 सितंबर 2010 को 4:34 pm

बहुत सुन्दर संकल्प, बहुत ही पवित्र अभिव्यक्ति है यह, आपका आभार और गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं !

पूर्णिमा ने कहा… 11 सितंबर 2010 को 4:40 pm

गणेशचतुर्थी की शुभकामनाएं !

निर्मला कपिला ने कहा… 11 सितंबर 2010 को 9:49 pm

बहुत सुन्दर संकल्प है। गण्पति जी हमे शक्ति दें कि हम अपना संक्ल्प पूरा कर सकें। गणेश चतुर्थी और ईद की शुभकामनाएं ।

सुमन'मीत' ने कहा… 11 सितंबर 2010 को 11:11 pm

गणेश चतुर्थी और ईद की बहुत बहुत बधाई.............

Udan Tashtari ने कहा… 12 सितंबर 2010 को 9:35 am

गणेश चतुर्थी और ईद की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

अजय कुमार ने कहा… 12 सितंबर 2010 को 11:18 am

गणेश चतुर्थी, तीज एवं ईद की बधाई

 
Top